फूड पॉइजनिंग के कारण, लक्षण, बचाव, घरेलू नुस्खा और इलाज-Food Poisoning Treatment in Hindi

आज इस आर्टिकल में जानेगे फूड पॉइजनिंग के कारण, फूड पॉइजनिंग का खतरा और फूड पॉइजनिंग का इलाज (Food Poisoning Treatment in Hindi) कैसे करे। 

खाना हमारे शरीर के विकास के लिए कितना महत्वपूर्ण होता है इस बारे में सभी अच्छे तरीके से जानते है। लेकिन सही तरीके से आहार ना लेने के कारण काफी बार दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। गलत आहार लेने की वजह से कई शारीरिक समस्याएं हो सकती है जिसमें से फूड पॉइजनिंग (Food Poisoning) एक आम समस्या है।

फूड पॉइजनिंग के कारण, लक्षण, बचाव, घरेलू नुस्खा और इलाज- Food Poisoning Treatment in Hindi

फूड पॉइजनिंग को नजर अंदाज करने से यह समस्या और भी ज्यादा गंभीर हो सकती है। फूड पॉइजनिंग का प्रमुख कारण हमारा गलत अनियमित दिनचर्या और खानपान है। जिसके कारण हम अपनी सेेहत को अनदेखा कर देते है। और तो और बारिश के मौसम में भी बहार का खाना बहुत जल्दी खराब हो जाता है।

और ऐसे खाने को खाकर आप अपनी सेहत के साथ समझौता कर लेते है। और फूड पॉइजनिंग का शिकार हो जाते है। Food Poisoning ka Treatment का समय रहते उपचार ना किया जाएं तो परिणाम घातक भी हो सकते है।

(Read More – थायराइड का आयुर्वेदिक उपचार, लक्षण, कारण और परहेज)

फूड पॉइजनिंग क्या है?- What is Food poisoning in Hindi

यह पेट से संबंधित समस्या है जो कि एक स्टैफिलोकोकस नामक बैक्टीरिया, वायरस या अन्य संक्रमण के चलते हो सकता है। यह बैक्टीरिया, वायरस हमारे खाने के साथ पेट में चले जाते हैं जिसकी वजह से फूड पाइजनिंग जैसी गंभीर समस्या का सामना करना पड़ता है।

खाने के अलावा गंदा पानी पीने, ज्यादा पानी पीने से या कोई अन्य ड्रिंक लेने की वजह से भी फूड पाइजनिंग की समस्या हो जाती है, जिसकी वजह लगातार उल्टियाँ आने जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है। 

(Read More – Dry Skin Care Tips: क्या आप भी हैं ड्राई स्किन से है परेशान ?)

फूड पॉइजनिंग के लक्षण क्या है?- Symptoms of Food Poisoning in Hindi

 अगर कोई व्यक्ति फूड पॉइजनिंग की समस्या से जूझ रहा है तो उसको कई शरीरीक समस्या हो सकती हैं-

  • पेट में तेज दर्द होने लगता है।
  • 10 से 20 मिनट के अंतराल में बार बार उल्टी होना
  • लगातार दस्त होने लगते हैं।
  • उस समय उखाना पचता नहीं है और कुछ भी खाने से वह तुरंत उल्टी के रूप में बाहर निकल जाता है।
  • सिर दर्द होने लगता है।
  • शरीर बहुत ज्यादा थका हुआ और कमजोर करने लगता है। जिससे शरीर बेजान-सा लगने लगता है।
  • बॉडी का तापमान (गर्मी) बढ़ने के साथ-साथ बुखार हो जाता है।
  • डायरिया की समस्या के साथ में खून आ सकता है।
  • ठंड लगना और बुखार आना
  • सिरदर्द रहना
  • मतली और उल्टी की समस्या होती है।
  • कमजोरी के कारण भूख ना लगना।
  • पेट में मरोड़ बनना।
  • मल में खून आना।

इसके अलावा Food Poisoning गंभीर होने पर मरीज को सामान्य लक्षणों के साथ-साथ निम्नलिखित लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं :-

  • मुँह का सुखना
  • गंभीर तरीके से निर्जलीकरण होना।
  • पेशाब में खून आना।
  • पेट में एसिड की मात्रा बहुत ज्यादा बढ़ना।
  • देखने या बोलने में कठिनाई होना।
  • पेशाब कम आना या पेशाब ना आने की समस्या होना
  • दस्त जो 3 दिनों से ज्यादा समय तक रहते है

सामान्य फूड पॉइजनिंग के आमतौर पर तीन दिन में व्यक्ति ठीक हो जाता है। अगर समस्या की स्थिति गंभीर हो जाए, तो जटिलताएं हो सकती हैं। इसलिए फूड पॉइजनिंग को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

(Read More –  Digital Marketing in Hindi)

फूड पॉइजनिंग के क्या कारण है? – Causes of Food Poisoning in Hindi

क्या आप जानते है कि आखिर क्यों होती है फूड पॉइजनिंग की समस्या। इस बीमारी का मुख्य कारक वायरस और बैक्टीरिया भी हो सकता है। ज्यादातर लोग अपने जीवन में कम से कम एक बार फूड पॉइजनिंग से जरूर पीड़ित होते हैं। इन निम्नलिखित में फूड पॉइजनिंग के कारण शामिल हैं-

  • खुले में या देर तक रखा खाना आपके पेट को संक्रमित कर सकता है। अगर स्थिति गंभीर हो जाए, तो जटिलताएं हो सकती हैं। 
  • अगर आप कच्ची सब्जियां या कम पका हुआ मांस खाते हैं या कच्चा दूध पीते हैं या अंकुरित अनाज आदि खाते हैं, तो फूड पॉइजनिंग की गिरफ्त में आ सकते हैं।
  • बिना हाथ धोए खाना बनना, बिना धुले बर्तनों या किचन के अन्य वस्तु फूड पॉइजनिंग होने के सामान्य कारण हो सकते है। 
  • कच्ची vegetables या Fruits जिन्हें अच्छी तरह से धोया न गया हो।
  • बासी खाने का सेवन करने से भी फूड पॉइजनिंग का कारण हो सकता है।
  • अगर आप खराब डेयरी प्रोडक्ट का सेवन करते है तो उससे भी फूड पॉइजनिंग की समस्या हो सकती है। जैसे बासी दही या दूध जो खराब होने के कगार पर हो। 
  • साफ पानी ना लेने की वजह से फूड पॉइजनिंग होने की समस्या सबसे ज्यादा हो सकती है। 
  • अगर आप मांस ज्यादा खाते है तो ध्यान रखें की आप जो मांस खा रहे है वह पूरी तरह से पका हुआ हो। कच्चा रहने से आपको फूड पॉइजनिंग का खतरा ज्यादा होगा।   

(Read More – मोटापा कम करने के उपाय – WEIGHT LOSS TIPS)

फूड पॉइजनिंग के घरेलू नुस्खा और इलाज- Home Remedies & Food Poisoning Treatment in Hindi

इस दौरान काफी थकान और सुस्ती महसूस होती है। ऐसे में मन में सवाल आता है की फूड पॉइजनिंग से कैसे छुटकारा (Food Poisoning Treatment in Hindi) पाया जाए। इस समस्या में जरुरी है कि हम अपने खाने-पीने को लेकर सावधानी बरतें। इसके अलावा हम फूड पॉइजनिंग से बचाव के लिए कुछ घरेलू नुस्खे भी आजमा सकते है। इन निम्नलिखित में घरेलू नुस्खें शामिल हैं- 

  • नींबू का सेवन करें (Use lemon): इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण पाये जाते है। इसलिए इसके सेवन से फूड पॉइजनिंग वाले बैक्टीरिया मर जाते है। 
  • तुलसी के सेवन केरें (Eat Basil Leaves): तुलसी में ऐसे गुण पाये जाते है जो रोगुणारोधी जीवो से लड़ते है। इसका सेवन आप कई तरीकों से कर सकते है। आप एक कटोरी दही में तुलसी और काली मिर्च डालकर सेवन कर सकते है। 
  • सेब का सिरका (Apple Vinegar): सेब के सिरके में मेटाबोलिज्म रेट को बढ़ाने वाले तत्व होते हैं। खाली पेट इसका सेवन करने से खराब बैक्टीरिया को मारने में मदद करती है। 
  • छाछ का इस्तेमाल करें (Use Buttermilk): अगर आप फूड पॉइजनिंग से जूझ रहे हैं तो आपको अपने डाइट में छाछ को शामिल करना चाहिए। इससे आपके पेट को ठंडक मिलती है और पेट में पानी की कमी दूर होती है।
  • ओआरएस का घोल पीएं (Drink ORS Solution): इस दौरान शरीर में पानी की कमी हो जाती है, इसी कमी को दूर करने के लिए समय-समय पर ओ.आर.एस लेना चाहिए। इसे आप घर पर भी बना सकते है बस नमक और चीनी का घोल मिलाकर इसे स्टोर कर ले। और आप समय समय पर पीते रहे जिससे जल्द आराम मिल सकता हैं।
  • केले का सेवन है जबरदस्त (Banana consumption is Awesome): केला फूड पॉइजनिंग को ठीक करने के लिए एक अच्छा उपाय है। ये बहुत हल्के और पचने में आसान होते हैं। फूड पॉइजनिंग से बचने और ठीक करने के लिए हर दिन कम से कम एक केले का सेवन करें। 
  • मेथी के बीज का सेवन (Having Fenugreek Seeds): मेथी के बीज पेट की गड़बड़ी को दूर करने में मदद करते हैं। मेथी के बीज और दही के संयोजन से आपको पेट दर्द और उल्टी में तुरंत लाभ मिलेगा।
  • लहसुन का सेवन काफी जबरदस्त (Garlic consumption is Tremendous): लहसुन में भी स्ट्रोंग एंटीवायरस और एंटीफंगल पदार्थ होते हैं। इसलिए यह भी फूड पॉइजनिंग से लड़ने में मददगार है। यह दस्त और पेट दर्द से भी राहत दिलाने में फायदेमंद है। लहसुन की एक कली को पानी के साथ गटक लें। इसका जूस बनाकर भी पी सकते हैं।

(Read More – महिलाये अपने सवास्थ्य की देखभाल कैसे करे?)

फूड पॉइजनिंग से बचाव- Food Poisoning Prevention in Hindi

इन निम्नलिखित में फूड पॉइजनिंग से छुटकारा दिलाने के लिए बचाव शामिल हैं – Food Poisoning Treatment in Hindi

  • हमेशा खाना खाने की जगह को साफ रखें। बर्तनों को साफ रखें।
  • सूखे मसालों और अनाज में फंगस आसानी से हो जाता है. इसलिए इनका इस्तेमाल करने से पहले इन्हें चेक करें।
  • नमकीन और बिस्किट जैसे स्नैक्स को हमेशा हेयर टाइट डब्‍बों में रखें।
  • पुराने मसालों को नियमित रूप से चेक करते रहें कभी इनमें फंगस तो नहीं लग गया है।
  • दही, दूध और टमाटर जैसी चीजों को हमेशा फ्रीज में स्टोर करें।
  • किचन में लकड़ी के बर्तनों जैसे चॉपिंग बोर्ड और चकला-बेलन का इस्तेमाल धोकर करें। चाकू का हमेशा धोकर इस्तेमाल करें।
  • गुंदा हुआ आटा और बची हुई सब्‍जी को हमेशा फ्रिज में स्टोर करें। खाने से पहले हमेशा चेक करें।
  • गर्मी और बारिश के मौसम में बासी भोजन का सेवन करने से परहेज करें। 
  • अगर दूध और आलू बासी हो गई है तो इसके सेवन करने से बचे। 
  • ज्यादा शक्कर वाले खाद्य पदार्थ खाने से बचे। 
  • ज्यादा मसाले-मिर्च वाले खाद्य पदार्थ खाने से बचे।
  • अपने पकाने और परोसने के बर्तनों की साफ-सफाई का बहुत ध्यान रखें।

(Read More – गर्भाशय नलिका (बंद फैलोपियन ट्यूब) खोलने  के आयुर्वेदिक उपचार)

फूड पॉइजनिंग से सम्बंधित किसी भी प्रकार की समस्या के लिए अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह अवश्य ले। उम्मीद है आपको ये जानकारी अच्छी लगी होगी अगर आपको किसी प्रकार का कोई प्रश्न हो तो हमें कमेंट जरूर करे।

digitalnitink.com

One thought on “फूड पॉइजनिंग के कारण, लक्षण, बचाव, घरेलू नुस्खा और इलाज-Food Poisoning Treatment in Hindi

  • August 30, 2022 at 9:48 pm
    Permalink

    Excellent place for Mexican food, the decoration and the atmosphere make you feel at home.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.