Tomato Flu kya hai? | टोमैटो फ्लू क्या है? लक्षण और उपचार – Tomato Flu in Hindi

Tomato Flu kya hai? | टोमैटो फ्लू क्या है? लक्षण और उपचार

कहा जाता है की खाने के साथ अगर सलाद मिल जाये तो खाने का मजा दुगना हो जाता है।  और सलाद में अगर टमाटर न हो तो खाने का स्वाद किरकिरा हो जाता है पर क्या आप जानते है की अभी तक हम टमाटर की सब्जिया या सलाद में इसका उपयोग करते थे पर अब टमाटर के नाम वाले वायरल बीमारी भी उपलब्ध हो चुकी है, जिसका नाम है “Tomato Flu” यानि टोमैटो फ्लू जी हां बिलकुल सही सुना आपने –  दक्षिण भारत में मिल रहे केस “टमाटर फ्लू” यानि Tomato Flu के केस आइये जानते है की टोमैटो फ्लू क्या है? (Tomato Flu kya hai?)

हाल ही में अभी कोरोना वायरस की महामारी से पूरी दुनिया बेहाल ही थी की दक्षिण भारत में Tomato Flu के कुछ केस सामने आये है। जिसको देखने पर वो बीमारी बहुत भयंकर तरीके से इंसान के बॉडी पर नजर आ रहे है। आइये हम Tomato Flu के बारे में विस्तार से जाने Tomato Flu kya hai? लक्षण, कारण और उपचार।  

(ये भी पढ़ेक्या आप भी हैं ड्राई स्किन से है परेशान ?: Dry Skin Care Tips)

Tomato Flu kya hai? | टोमैटो फ्लू या टमाटर बुखार क्यों कहते है ?

सबसे पहले तो आप ये जान लें कि ‘टोमैटो फ्लू’ का टमाटर से कोई संबंध नहीं है।

आइये जानते है की इसको टोमैटो फ्लू क्यों कहते है ? इस बीमारी को टोमैटो फ्लू इसलिए कहा जाता है क्युकी जब ये वायरल बीमारी किसी को होती है तो उसके फेस पर या उसके बॉडी पर टमाटर की तरह Red कलर के मोटे-मोटे निशान देखने को मिलते है। इसलिए इसको टोमैटो फ्लू का नाम दिया गया है। 

टमाटर फ्लू की शुरुआत कब और कैसे हुई – Tomato Flu in Hindi

केरल के कोल्लम जिले में मई, 2022 को पहला टमाटर फ्लू का मामला सामने आया

26 जुलाई, 2022 को केरल में 82 बच्चो में टोमैटो फ्लू देखा गया है ऐसा पुष्टि की गयी है की उनकी उम्र 5 साल से कम है। इससे ये पता चलता है की इसका असर 10 -12 वर्ष के कम बच्चो में देखने को मिलता है।

अभी 24 अगस्त, 2022 तक 100 से भी अधिक टोमैटो फ्लू के मामले देखने को मिल चूका है।

अभी तक केरल के अलावा और भी कई राज्यों में टोमैटो फ्लू का मामला सामने आया है जिनमे हरियाणा, ओड़िसा और तमिलनाडु राज्य शामिल है।

(ये भी पढ़े – पंचकर्म क्या है, करने का तरीका, फायदे और नुकसान)

टोमैटो फ्लू के लक्षण क्या हैं? – Tomato Flu symptoms in Hindi

tomato flu symptoms in hindi, tomato flu
Tomato Flu Symptoms

1. टोमैटो फ्लू के लक्षण के बहुत ही आसानी से देखे जा सकते है टमाटर फ्लू के लक्षण निम्न है आइये जाने –

2. तेज बुखार आना

3. टमाटर के आकर जैसे दिखने वाला लाल रंग के चकत्ते

4. त्वचा में रैसेस होना

5. निर्जलीकरण

6. शरीर में दर्द होना

7. जोड़ों में सूजन होना

8. हाथों, घुटनों और नितंबों का मलिनकिरण

9. मतली आना या जी मिचलाना

10. उल्टी होना

11. पेट में ऐंठन हो जाना

12. हमेशा थकावट जैसा महसूस करना

13. अधिक खाँसना और छींक आना

14. अगर आपके बच्चो में जिनकी उम्र 10 -12 साल से कम है उनमे ये लक्षण दिखाई दे तो तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर से सम्पर्क करना चाइये।

क्या टोमैटो फ्लू संक्रामक है?

जी हां बिलकुल, वायरल फ्लू जैसे ही टोमैटो फ्लू भी एक संक्रामक रोग है। आपको ये जानकर बहुत हैरानी हो सकती है की इस बीमारी को एक छूत की बीमारी कहा जा सकता है क्युकी ये छूने से भी फैलती है। अगर आपके बचें के आसपास कोई भी पीड़ित व्यक्ति दिखाई दे तो तुरंत उससे दुरी बना लेनी चाइये।

अगर आपका बच्चा इस बीमारी की चपेट में आ जाता है तो उसको अलग कमरे में रखे और उससे थोड़ी दुरी बनाये। वैसे आपको बताना चाहते है की अभी तक कोई ऐसा मामला सामने नहीं आया जिसमे किसी बच्चे की जान गयी हो ये एक राहत की बात है।

जब आपका बच्चा Tomato Flu से ग्रस्त हो जाए तो करें ये उपाय ?

अगर आपका बच्चा टोमैटो फ्लू से संक्रमित हो गया है क्या करे आइये जाने किन बातों का खास ध्यान रखें :-

  • डॉक्टर से तुरंत मिले।
  • साफ़-सफाई का विशेष ध्यान दे।
  • अपने बच्चे को फफोले खरोंचने से रोके।
  • अपने बच्चे को उबला हुआ पिलाये और उसको हाइड्रेटेड रखें।
  • बच्चो को गुनगुने पानी से स्नान करवाए।
  • सेनीटाईजार का उपयोग करें समय-समय पर हाथ धोते रहें।
  • कम से कम शारीरिक वर्क करे अपने शरीर को आराम दे।
  • संक्रमित के पास जाने से पहले मास्क और दस्ताने का प्रयोग करें।
टोमाटो फ्लू से कैसे बचें? How to Avoid Tomato Flu in Hindi?

टोमाटो फ्लू से आप अपने बच्चे का बहुत आसानी से बचा सकते है। विशेषज्ञों के अनुसार इस बीमारी में मृत्यु की दर बहुत कम है और इसका इलाज आसानी से हो सकता है। इसलिए आप टोमाटो फ्लू से बचाव के लिए निम्नलिखित कदम उठा सकते हैं :-

पुरे दिन में मिनिमम 2 लीटर पानी का सेवन करे साथ हे अन्य पेय उत्पादों का भी उपयोग कर सकते है जैसे की – नारियल पानी, फ्रेश जूस, निम्बू पानी आदि।

  • ठन्डे पानी को avoid करे और गुनगुने पानी का सेवन करे।
  • अगर फफोले (blisters) हो जाए तो उन्हें touch करने से बचें।
  • अपने बच्चो के बॉडी की साफ-सफाई का भी खास ख्याल रखे।

(ये भी पढ़े – गर्भाशय नलिका (बंद फैलोपियन ट्यूब) खोलने  के आयुर्वेदिक उपचार)

Leave a Reply

Your email address will not be published.