महिला स्वास्थ्य – Women Health in Hindi

हेलो दोस्तों, आप लोगो को पता ही होगा की महिलाये संसार की ऐसी जाती है जिसके बारे में जितना बताया  जाये उतना ही कम है, महिलाएं समाज का अहम् हिस्सा होती है। महिला के बिना समाज की कल्पना करना  व्यर्थ है। जब हमें ये पता है की उनके बिना ये सृष्टि नहीं चल सकती तो ऐसे में घर परिवार एवं समाज का कर्तव्य बनता है कि महिलाओं के स्वास्थ्य की देखभाल करें।

महिलाओ को अपने स्वास्थ्य को लेकर बहुत से उतार चढ़ाव का सामना करना पड़ता है। उनके होने वाले महिलाओं की स्वास्थ्य समस्याएं अलग होने के कारण उनके दुष्प्रभाव से सम्बंधित हम चर्चा करेंगे।

जैसा की आपलोग को शायद पता हो की महिलाओ को दोयम दर्जे के भाव से देखा गया है। और ये भावना केवल भारत में नहीं बल्कि पूरे दुनिया भर में देखा गया है की महिलाओं की सामाजिक हिस्सेदारी पुरुषों की अपेक्षा थोड़ी सी कम है।

यही वजह है की महिलाओ के स्वास्थ्य से संबंधी समस्याओं का इलाज और उनकी देखभाल पर काम ध्यान दिया गया है। अब के समय में महिलाओ ने अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देना start किया है लेकिन देखा जाये तो अभी भी उतना सुधार नहीं हुआ है।

आज हम महिला स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों पर बात करेंगे जो बहुत महत्वपूर्ण है –

1. महिला रोग संबंधी स्वास्थ्य समस्या (Women’s Health Problem)

2. प्रेगनेंसी से जुड़ी समस्याएं (pregnancy Problem)

3. ओवेरियन कैंसर एवं सर्वाइकल कैंसर (Ovarian cancer cervical cancer Problem)

(Read More.. नौकरी करे या बिज़नेस – Job vs Business)

तो सबसे पहले बात करते है

1. स्त्रीरोगसंबंधी स्वास्थ्य समस्या (mahila rog sambandhi samasya) 

महिला (women’s) में कुछ ऐसे रोग (diseases) होते है जो महिलाओ के स्वास्थ्य के लिए अच्छे नहीं होते या कहे की हानिकारक होते है। ये जानना बहुत जरुरी है की औरतो के period पीरियड्स अगर प्रभावित हो जाते है तो बहुत तरह की बीमारी तथा समस्या उत्पन्न हो सकती है।

Women's Health in hindi, pcod
PCOD/ PCOS

जैसे पीसीओएस (PCOS), पीसीओडी (PCOD) की समस्या, फाइब्रॉइड (fibroid) की समस्या, एंडोमेट्रिओसिस तथा बैक्टीरियल वेजिनोसिस (Bacterial vaginosis) जैसी आदि की समस्या हो सकती है।

जिसके कारण महिलाओ के स्वास्थ्य (Health) पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। महिला को healthy रहने के लिए अपना ख्याल रखना चाहिए तथा पुरुषो को भी टाइम से उनका हाल चाल पूछना चाइये। महिला संसार की जननी है उनका स्वास्थ्य अच्छा हुआ तो संसार का स्वास्थ्य अपने आप ठीक रहेगा।

2. Pregnancy से जुड़ी समस्याएं (Pregnancy Problem)

प्रेगनेंसी (Pregnancy) महिलाओ की ऐसी position होती है जिसमे महिलाओ को अपने स्वास्थ्य (Health) से सम्बंधित खान – पान पर ध्यान देना होता है उनके लिए वो नाजुक मोड़ होता है।

प्रेगनेंसी के समय महिलाओ को अपने health पर सबसे ज्यादा ध्यान देना होता है। ध्यान इसलिए देना होता है क्युकी गर्भवती महिला को उस दौरान गर्भपात जैसी समस्या भी हो सकती है, टाइम से पहले ही प्रसव हो सकता है, स्तनपान की problem हो सकती है, तथा जन्म दोष भी हो सकता है। और इसके अलावा भी सिजेरियन (सी-सेक्शन) जैसी बीमारियों का भी सामना करना पड़ सकता है।

3.ओवेरियनकैंसर एवं सर्वाइकल कैंसर (Ovarian cancer cervical cancer Problem) 

ओवेरियन कैंसर – ओवेरियन कैंसर वो बीमारी है जो महिलाओ के स्वास्थ्य में बहुत बड़ी मुसीबत बन सकती है। ओवेरियन कैंसर औरतो के अंडाशय (एग) में होता है जिससे की महिलाओ में उनकी प्रजनन ग्रंथि को बेकार करता है और वो ख़राब हो जाती है। इतना ही नहीं ये बीमारी इतनी खतरनाक है की इससे महिलाओ की मौत भी हो जाती है। और इसका पता तब लगता है जब ओवेरियन कैंसर 4th stage पर पहुंच चुका होता है।

सर्वाइकल कैंसर – ये बीमारी ऐसी है जो दुनियाभर में महिलाओ को होने वाला 2nd नंबर पर आती है। ये बीमारी जब होती है जब औरत का आधा जीवन गुजर चूका होता है। इस बीमारी की होने की उम्र लगभग 35 से 40 वर्ष की औरतो में अधिक पाया जाता है।

(Read More.. IRCTC से ट्रेन टिकेट कैसे बुक करे)

महिलाओ को स्वस्थ (Women’s Health) रहने के लिए क्या खाना चाइये (women’s Diet Chart)

women's health diet chart
Women’s Diet Chart

महिलाओ को हमेशा फिट और फाइन रहने की आवश्यकता होती है और वो ये चाहती है की हर समय वो फिट रहे। आज मै आपको कुछ ऐसे diet के बारे में बताऊंगा जिससे महिला इस खान – पान को अपने जीवन में डाल सकती है और उनको होने वाली समस्या से छुटकारा भी मिल जायेगा।

1. टमाटर(Tomato) – महिलाओ की सेहत के बात करे तो टमाटर बहुत अच्छा माना जाता है क्युकी Tomato महिलाओ के लिए Digest या Medicine की तरह काम करता है ये एक प्रकार का महिलाओ के लिए बहुत फायदेमंद वेजिटेबल होता है। इसमें विटामिन बी6 होता है जो औरतो के पीरियड्स में होने वाले मूड स्विंग्स को दूर करता है।

2. दूध (Milk) –महिलाओ में बहुत बार देखा जाता है की उनमे कैल्शियम (Calcium) की बहुत ज्यादा जरुरत होती है। इसलिए कैल्शियम की कमी को दूर करने के दूध का सेवन बहुत जरुरी हो जाता है। अच्छे मात्रा में दूध का सेवन कर problem को दूर किया जा सकता है और हड्डियों को मजबूत कर के होने वाली हड्डियों की परेशानी को दूर किया जा सकता है।

3. पालक(Spinach) आपको पता ही होगा की जब भी हरी सब्जियों की बारे में जिक्र होता है तो सबसे पहले नाम पालक का आता है। जी हां आज हम बात करेंगे की पालक कितना असरदार होता है ये सिर्फ महिला के लिए नहीं बल्कि सभी के लिए पौष्टिक आहार माना जाता है। पालक में इतने सरे गुण होते है की इसको सभी लोगो को खाना चाइये और सबसे ज्यादा महिलाओ को इसका सेवन करना चाइये। पालक के अंदर Vitamins, Mineral तथा मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में होता है। औरतो को इसका सेवन करने से पीरियड्स में होने वाली शारीरिक समस्या जैसे पेट में ऐंठन, मुड में परिवर्तन, अत्यधिक ब्लीडिंग से बच सकती है।

4. अखरोट (Walnut) – इसके सेवन से महिला और पुरुष दोनों की समस्या कम हो जाती है। इसका सेवन महिलाओ को अधिक करना चाइये क्युकी इसमें Omega – 3 फैटी ऐसिड, फाइटोस्टेरॉल तथा एंटिआक्सिडेंट पर्याप्त मात्रा में पाये जाते है। जिससे महिलाओ को ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम होता है। और ये आर्थराइटिस की परेशानी को भी दूर करता है।


उम्मीद करता हु मेरे द्वारा दी गयी जानकारी आपको पसंद आएगी। अगर इससे सम्बंधित कोई दिक्कत हो तो comment जरूर करे। तथा ये जानकारी आगे भी share करे।

Read More.. SEO क्या होता है SEO कैसे करे ?

4 thoughts on “महिला स्वास्थ्य – Women Health in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.